VISUAL ARTS, POETRY, COMMUNITY ARTS, MEDIA & ADVERTISING
"My art is my search for the moments beyond the ones of self knowledge. It is the rhythmic fantasy; a restless streak which looks for its own fulfillment! A stillness that moves within! An intense search for my origin and ultimate identity". - Meena

Showing posts with label Books. Show all posts
Showing posts with label Books. Show all posts

Friday, 4 September 2015

Read eBook of Hindi and Urdu Poems of Canadian Poets: रंग और नूर رنگ اور نور RANG AUR NOOR here for free!




Thursday, 3 September 2015

Read eBook of Hindi & Urdu Poets of Canada रंग और नूर رنگ اور نور RANG AUR NOOR (Colour & Radiance)

(कनाडा की उर्दू एवं हिंदी की काव्य प्रतिभाओं का काव्य संकलन) कनाडा का राष्ट्र जो की विश्व भर की विविधताओं का एक निरंतर प्रवाह है और अपने में उन्हें एक समुद्र की तरह समेटता भी है, उसकी पावन भूमी पर, "रंग और नूर" इ-काव्य संकलन, कनाडा में बसे हिंदी और उर्दू के रचनाकारों द्वारा विश्व भर के हिंदी और उर्दू के पाठकों और कविता प्रेमियों के लिए एक नया प्रयास है। Canada is a land of a continuous flow of world's diversity



Sunday, 5 October 2014

"रंग और नूर" यहाँ पढ़े - Read "Rang aur Noor" here




For my poetry kindly Visit: English: http://ignitedlines.blogspot.com Hindi: http://ignitedlines.blogspot.com/ website: http://meenachopra17.wix.com/meena-chopra-artist

Saturday, 20 September 2014

FREE Workshop-e-publishing, Launching e-books-RANG AUR NOOR - Hindi & Urdu (COLOURS AND RADIANCE), IGNITED LINES (English) and others



"सभी पाठको एवं लेखक गण को "रंग और नूर" काव्य संकलन के विमोचन और फ्री इ-पब्लिशिंग वर्कशॉप पर सादर निमंत्रण। आपकी अमूल्य उपस्थिति का हमें विशेष रूप से इंतज़ार है। कार्यक्रम की रूपरेखा नीचे संलग्न फ्लायर में है।
पुस्तक विमोचन १:३० - ३:१५ pm
वर्कशॉप: ३:३०- ४:३० pm
२८ सितम्बर, ईतवार, सेंट्रल लाइब्रेरी मिसिसागा (पता नीचे है)
आभार के साथ
मीना चोपड़ा, अनिल पुरोहित, नसीम सयैद"
We are very excited to be included amongst the thousands of activities that are already registered to take place in hundreds of communities across Canada for the fifth annual Culture Day on September 28, 2014.FREE WORKSHOP ON E-PUBLISHING and LAUNCHING E-BOOKS (English,Hindi, Urdu)
CELEBRATING THE COLOURS AND RADIANCE OF HINDI POETRY & URDU SHAYARI (Event is a part of Ontario Culture Days & is sponsored by Mississauga Library System)
-----------Programme details-------------------
LAUNCHING OF E-BOOK:
1) "RANG AUR NOOR" : Anthology reflecting the Hindi and Urdu poetic talent of Canada, sprinkling their colour and verve, there by enriching the wide panoramic landscape of Canadian ethnic literary arts.
EDITED BY: Nasim Syed, Meena Chopra, Anil Purohit
Names of the poets:
Canada ke lekhan ki shaan badhate hue RANG AUR NOOR mein sammilit kavi aur shayron ke naam. (Names of the poets included in RANG AUR NOOR(Colour and Radiance)
Anil Purohit
Faisal Azim
Meena Chopra
Nasim Syed
Manoshi Chatterji
Sameer Lal ‘Sameer’
Krishna Verma
Tahir Aslam Gora
Irfan Sattar
Jawaid Danish
Poonam Chandra “Manu”
Devedra Mishra
Poonam Kasliwal
Sundeep Tyagi
Gopal Bagel ‘Madhu’
Jasbir Kalravi
Savita Aggarwal ‘savi’
Nirmal Siddhu
Bhagawati Sharan
Buvaneshwari Pandey
Jagmohan Sangha
Raj Maheshwari
Poems have been transliterated by Alam Khursheed.
ADDITIONAL E-BOOK LAUNCHES:
"Ignited Lines" (English) by Meena Chopra - Artist & Poet
"Subah ka Sooraj ab Mera Nahin hai" (Adieu to the Dawn) (Hindi), "Subah ka Sooraj ab Mera Nahin hai" (Urdu) by, "Subah ka Sooraj ab Mera Nahin hai" (Roman) by Meena Chopra, Urdu transliteration by Nasim Syed.
2) WORKSHOPS:
Workshop on blogging by Sameer Lal-Author, blogger:http://udantashtari.blogspot.ca/

Workshop on e-book publishing by Meena Chopra, Author, Artist, Consultant-Social Media Impact
.
The name RANG AUR NOOR (COLOURS AND RADIANCE) has been suggested by Bhupinder Virdi
‪#‎canlit‬ ‪#‎poetry‬ ‪#‎mississauga‬













Thursday, 13 October 2011

I will be a HUMAN BOOK with 16 other live HUMAN BOOKS at Brampton Library, Chingnacousy Branch on 19th Oct. 2 -3:30pm. I would love share GLIMPSES OF DIVERSE LIFE with all .




Launching Unique Library Books at Brampton Library

StarBuzz Weekly, Toronto-Brampton Library will be launching its First Human Library event which is planned during the Ontario Public Library Week and is a part of the third annual Library Settlement Partnership Day. It is scheduled on Wednesday Oct 19, 2011 from 2:00-5:00 pm at the Chinguacousy Branch.

Tuesday, 13 September 2011

Strangers


In the day's heat
I sought myself in you.
Strangers we were, still are
silhouettes in each other's eyes.
Remnants of a deflected time.


Monotony
Nonexistence
is claustrophobic.
I fear remaining an outline.


Your warmth lingers
Un-captured,
fading into opacity.
1 know 1 will burn
till the fire burns in me.

-Meena Chopra - from my collection "IGNITED LINES"

Tuesday, 5 April 2011

Liquid Lunch 2011-03m-29 (NF) Spence Venne - Meena Chopra - Jasmine D'Costa - Jude Fernandes on ThatChannel.com




INDIAN VOICES: Hugh Reilly and Natalie Filippelli speak with: author and publisher Meena Chopra about her art, poetry, and contribution to the upcoming book "Indian Voices" about to be released here in Canada; Jasmine D'Costa, creator of "Indian Voices" talks about the upcoming release party April 7 at The Supermarket art bar on Augusta and delves into ancient Indian history and mythology, including the ancient spacecraft called Vimanas; Jude Fernandes, contributor to Indian Voices (and creator of Sulekha.com) talks about his experience growing up in Goa, their food, and the fabulous beaches; then it's EXTREME CLOSEUP with Spence Venne on his triumphant return to ThatChannel.com (tune in live today at noon!)

Saturday, 2 April 2011

Rashtrya Sahara - August 1996 - Poetic Expressions in Colour, Artist And Poet Meena Chopra

Rashtrya Sahara - August 1996 - Poetic Expressions in Colour, Artist And Poet Meena Chopra

Rashtrya Sahara - August 1996 - Poetic Expressions in Colour, Artist And Poet Meena Chopra

Tuesday, 8 February 2011

White Canvas


Ignited Lines II Edition
 Your vivid stroke
etched in my memory
bestirred my stark white canvas.
A passing night clasped me
replete with colours.
Raw impulses wide awake
splashed shades
tinting the sheet
toning the moods.

A splendor bedded
with me all night
A river
oozed out in heat.
My opaque vision.
grasped the forthcoming dawn.
A fatigue
tarried within me
throughout the day.

Monday, 7 February 2011

BUY MY POETRY BOOKS ALONG WITH THE REPRODUCTION OF MY DRAWINGS HERE

सुबह का सूरज अब मेरा नहीं है  HINDI - $12.99 USD
Publisher: HINDI WRITER'S GUILD
Author: MEENA CHOPRA
ISBN: 978-0-9813562-2-8













-----------------------------------
subah kaa suuraj ab mera nahin hai.
सुबह का सूरज अब मेरा नहीं है with Roman Script - $15.99 USD
Publisher: HINDI WRITER'S GUILD
Author: MEENA CHOPA
ISBN: 978-0-9813562-3-5












---------------------------------
صبح کا سورج اب میرا نہیں ہے -  URDU  $12.99
Publisher: HINDI WRITER'S GUILD
Author: MEENA CHOPA
ISBN: 978-0-9813562-5-9






---------------------------------

IGNITED LINES - $ 12.99 USD
Publishers: STARBUZZ MEDIA CANADA & HINDI WRITER'S GUILD
Author: MEENA CHOPA
ISBN: 978-09813562-4-2










Some Links
by Jim Wilkes

by J.P. Antonacci

-Review by Gautam Siddharth

Some Comments:

"कविता की भाषा में उनके संग्रह की असंलक्ष्य क्रम व्यंग्यध्वनि पढ़ने वाले को, अगर सचमुच वह सहृदय भावुक है, तो उसे एकाएक कौंधेगा कि यह कवयित्री व्यंजना के सहारे कितनी मार्मिक बात कह रही है और उसके भीतर की करुणा का आकाश कितनी दूर तक भासमान है। असल में आँखों से दीख पड़ने वाले आकाश से कहीं बड़ा और अपरिमेय है बंद आँखों का आकाश।”
-डॉ.कैलाश वाजपेयी

"Painting and poems go very well together. There is vitality in the forms, colours and the words chosen by Meena Chopra. Here is a charming feast of lyricism in paintings and poems".
- Dr. L.M. Singhvi

"उनकी कविताएं परिपक्व कविता का ठोस नमूना हैं जो जीवन में संबन्धों को नई व्याख्या देती हैं। विदेशों में रची जा रही कविताओं में मीना चोपड़ा की कविताओं का स्थान विशिष्ट माना जाएगा।"
- तेजेन्द्र शर्मा

"Your work expresses a dynamic of power, emotions, and fear. Only a great mind and a multi layered individual could construe the creations that you have set forth. I know I don't know you but through your work, I feel that I do. Your work portrays something more than the picture. It conjures up raw emotion"
-Vique Mora, USA

“A characteristic of her style is that physical sensations beautifully blend with abstract thought. Yearning for fulfillment is attended upon by consciousness of fragmentation.”
-Dr. Shalini Sikka, The Quest, (India) 1996

"She unveils shimmering facets of love, possession, mind and self with sensitivity. She is delicate but strong, gentle yet sharp, vulnerable yet proud. Self-actualization is more a matter of routine than effort; it is the moment beyond the ones of self knowledge that she wants to live up to, and become, not a mere rhapsody in search of life but a rhapsody in search of the deeper self. In this sense she is her own Sun…”
- Gautam Siddharth The Pioneer (Book reviews), (India) 28.9.1996

“Accompanying the cluster of these lovely oil pastels worked out like ’two inches of ivory’ are her versus. The words and the visuals support each other and the viewer is taken on to a journey to the end of the clouds. Look at her art or read her poetry there is a feeling of scaling heights, going to the mist of the mountains and scenting the fragrant pines.”
-Nirupama Dutt, Indian Express (India), August 22 1999

"The embryonic bond that she shares with nature forms the keynote of her work. Words freeze the impalpable fears finding their refuge in the womb of earth”.
- First City Delhi India 1999

"Meena Chopra’s poetry mirrors her acute sensibilities which, in turn, enmesh with her deft strokes on canvas.”
- S. Rajoo, The Times of India, Delhi, 23. 7. 1996

“مینا کے رنگ کینو س پر بکھر تے ہیں تو شا عری کر تے ہیں اور جب وہ شا عری کر تی ہے تو دھنک کے رنگ اس کی شا عری کے کینوس پر بکھر جا تے ہیں- مینا کی رو ح فطر ت کے حسن سے جڑی ہو ئ ہے اور جب اسکا حسا س دل اور سو چتی آ نکھیں ان منا ظر سے گزر تے ہیں تو عشق کے آ وے پر ا حسا س کی مور تیا ں ڈ ھا لتے ہا تھ جلتے ہو ئے چر ا غو ں جیسی نظمیں قطا ر در قطا ر سجا تے چلے جا تے ہیں"
-Nasim Syed

(Meena Chopra ek shaiira he nahen artist bhe hy iis leye shayad jb iis ky rang canvas per bikharte hen to rang shaiire kerte hen aur jab woh shaiire ker te hy to dhanak ke rang us ke shaiire ky canvas per bikhar jate heN. Meena ki rooh fitrat ky husn sy juree hoE hy aur jab eska hassas dil aur soochte ankheen iin manazir sy guzar te heN to ishq ke aaway per ehssas ke morteyaN dhaltee hath jalty hoE charagon jise nazmeen qatar der qatar sajate chalee jate heN....Nasim Syed)







Sunday, 12 December 2010

Toronto Star

Print Articl

The Star Logo
Back to Setting sun inspires Mississauga poet and artist

Setting sun inspires Mississauga poet and artist

August 09, 2010
Jim Wilkes

{{GA_Article.Images.Alttext$}}
Mississauga poet and artist Meena Chopra writes in three languages -- English, Hindi and Urdu. She says the sunsets she sees from the windows of her Mississauga home remind her of her childhood in northern India. Her abstract painting Fireball is in background.

JIM WILKES/TORONTO STAR
When Meena Chopra gazes at sunsets from the window of her Mississauga home, she's transported back to her childhood in northern India.
For the internationally acclaimed poet and artist, it's inspiration that has filled countless pages and canvases with colourful words and images.
“It was strange when I came to Canada in 2004, I started getting connected to my childhood,” said Chopra, 53. “Canada is so beautiful, such wide spaces, such out-of-the-world sunsets.
“It touched my creative spirit,” she said. “It's the same sun, the same beauty that nature gives to all of us.

Wednesday, 14 April 2010

कुछ निशान वक्त के

झील से झांकते आसमान की गहराई में
बादलों को चूमती पहाड़ों की परछाईयां
और घने पेड़ों के बीच फड़फड़ाते अतीत के चेहरे
झरनो के झरझराते मुख से झरते मधुर गीत संगीत
हवाओं पर बिखरी गेंदे के फूलों की सुनहरी खुशबू
दूर कहीं सजदों में झुकी घंटियों की गूंज
बांसुरी की धुन में लिपट कर चोटियों से
धीमे—धीमे उतरती मीठी धूप।

पानी में डुबकियां लगाती कुछ मचलती किरणे
और उन पर छ्पक—छपक चप्पूओं से सांसे लेती
ज़िन्दगी की चलती नौका
रात की झिलमिलाहटों में तैरती चुप्पियों की लहरें
किनारों से टकराकर लौटती जुगनुओं की वो चमक।

उम्मीदों की ठण्डी सड़क पर हवाओं से बातें करती
किसी राह्गीर के सपनों की तेज़ दौड़ती टापें
पगडंडियों को समेटे कदमो में अपने
पहूंची हैं वहां तक—जहां मंज़िलों के मुकाम
अक्सों में थम गये हैं
झील की गहराई में उतरकर
नींद को थपथपाते हुए
उठती सुबह की अंगड़ाई में रम गये हैं।


*यह कविता मेरे बचपन और
जन्मस्थल नैनीताल से प्रेरित है।
Audio of the above poem.
video

Friday, 12 March 2010

"ग्लिंरपसिज़ ऑफ द सेटिंग सन" चित्रकला प्रर्दशनी और पुस्तक लोकार्पण




"ग्लिंरपसिज़ ऑफ द सेटिंग सन"
चित्रकला प्रर्दशनी और पुस्तक लोकार्पण
फरवरी २८, २०१० - मिसिसागा सेंट्रल लाइब्रेरी के सभागार में रविवार की दोपहर के बाद मिसिसागा की चित्रकार और कवयित्री मीना चोपड़ा की चार पुस्तकों का लोकार्पण हुआ। काव्य संकलन "सुबह का सूरज अब मेरा नहीं है" का हिन्दी, हिन्दी और रोमन-हिंदी और उर्दू संस्करणों का और उनकी अंग्रेज़ी कविताओं के संकलन "इग्नाईटिड लाईन्ज़" का लोकार्पण हुआ। इग्नाईटिड लाईन्ज़ का यह दूसरा संस्करण था। मीना चोपड़ा विश्व विख्यात चित्रकार भी हैं। इस अवसर पर उनकी कला कि पर्दर्शनी भी आयोजित की गई थी। यह प्रदर्शनी ५ मार्च के बाद मेडोवेल लाईब्रेरी में देखी जा सकती है।
कार्यक्रम का आरम्भ मिसिसागा सेंट्रल लाईब्रेरी की कला और इतिहास विभाग की प्रबंधक सुश्री मैरियन कुटरना ने स्वागत वाक्य से किया। यह कार्यक्रम लाईब्रेरी के तत्वावधान में हिन्दी राइटर्स गिल्ड के सहयोग से किया जा रहा था। मुख्य भूमिका मिसिसागा लाईब्रेरी की ही थी। कार्यक्रम के संचालन का भार बिनॉय टॉमस (संपादक – वॉयस समाचार पत्र) ने संभाला। इस अवसर पर उपस्थित सांसद नवदीप सिंह बैंस ने मीना चोपड़ा की द्विभाषीय पुस्तक का विमोचन किया, हिन्दी की पुस्तक का लोकार्पण भारतीय काउंसलावास के एम.पी. सिंह के करकमलों से, उर्दू की पुस्तक को लोकार्पित डॉ. सलदानाह और इग्नाइटिड लाइन्ज़ को मैरियम कुटरना ने लोकार्पित किया। अगले चरण में मीना चोपड़ा ने कुछ अंग्रेज़ी और हिन्दी की कविताएँ सुनाईं।
नवदीप सिंह बैंस ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि वह इस अवसर पर एक सांसद के रूप में नहीं बल्कि एक पारिवारिक मित्र की तरह उपस्थित हुए हैं। उन्होंने मिसिसागा लाईब्रेरी को इस कार्यक्रम के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि कैनेडा के बहुसांस्कृतिक समाज का यह उत्सव है। उन्होंने यह भी कहा कि शायद ही पहले कभी हुआ होगा कि एक ही पुस्तक का अनेक भाषाओं में एक ही दिन और एक ही दिन लोकार्पण हुआ हो। उन्होंने सभा में विभिन्न समाज के लोगों की उपस्थिति को रेखांकित करते हुए कहा कि मीना चोपड़ा न केवल एक कवयित्री हैं बल्कि वह सेतु निर्माता भी हैं। काउंसुलेट श्री एम.सी. सिंह ने इसे कैनेडा की बहुसांस्कृतिक नीति की सफलता कहते हुए बधाई दी। उन्होंने भारत और कैनेडा की तुलना करते हुए कहा कि दोनों देशों यही समानता है कि हम लोग अपनी अनेकता का उत्सव मनाते हैं और यही हमारे समाजों की शक्ति है। उन्होंने कहा कि वह यही तथ्य मीना की चित्रकारी और कविताओं में पाते हैं – भारतीय थाती में कैनेडियन अनुभव की झलक। डॉ. सलदानाह ने अपने संबोधन में मीना जी को बधाई दी और लाइब्रेरी सिस्टम को इस कार्यक्रम के लिए साधुवाद दिया।
कार्यक्रम के अगले चरण में मीना जी हिन्दी की पुस्तक "सुबह का सूरज अब मेरा नहीं है" की समीक्षा सुमन कुमार घई ने करते हुए कहा कि मीना की कविताएँ आंतरिक हैं। मीना एक चित्रकार है और अपने आसपास के बिखरे रंगों और प्राकृतिक सुंदरता को आत्मसात कर लेती हैं और वह प्रकृति उनके अंदर जीवित रहते हुए उनकी कविताओं में उतरती है। क्योंकि वह अंग्रेज़ी की भी कवयित्री हैं इसलिए हिन्दी कविता में अंग्रेज़ी से आयतित प्रतीकों से कविता में और निखार आ गया है। उन्होंने कहा, "मीना सीमाओं से परे हैं – उनका अनुभव वैश्विक है।"
नसीम सैय्यद, जिन्होंने मीना चोपड़ा की कविताओं को ऊर्दू लिपी में लिखा है, ने ऊर्दू की पुस्तक की समीक्षा करते हुए, मीना की कविताओं के उर्दू रूपांतर को सुनाया। नसीम सय्यैद ने कहा, "वह लिखते हुए चित्रकारी करती हैं, वह लिखती हैं जब प्रभावशाली प्रतीकों को अपनी चित्रकारी में उतारती हैं। उनका संबोधन भावपूर्ण और कवितामय था। उन्होंने भी कहा कि मीना की कैनवास के रंग मीना की कविता पर बिखर गए हैं।
अंग्रेज़ी की पुस्तक पर शेरल ज़ैवियर बोलीं। वह कैनेडियन फेडरेशन ऑफ पोएट्स की संस्थापिका हैं।
कार्यक्रम के अंत में मीना चोपड़ा ने हिन्दी और उनके अंग्रेज़ी रूपांतर सुनाए। धन्यवाद ज्ञापन टिया विरदी और मेरियन कुटरना ने दिया। मेरियन ने कहा, "यह मिसिसागा लाइब्रेरी में पहला बहुभाषी लोकार्पण था।" उन्होंने हिन्दी भाषा को न समझने पर टिप्पणी करते हुए कहा, "भाषा का स्वर ही कविता है, मानवीय हृदय हम सबमें एक सा है और आज हम उसे साझा कर रहे हैं।
इस अवसर पर सौ के लगभग लोग उपस्थित थे। मिसीसागा के विभिन्न मीडिया ने भी इस कार्यक्रम को कवरेज़ दी। इसी श्रृंखला में १० अप्रैल को मेडोवेल लाईब्रेरी में मीना की कविताओं पर खुली चर्चा होगी। समय दोपहर के दो से चार बजे तक का है।
Related Posts with Thumbnails

My links at facebook

Twitter

    follow me on Twitter

    Popular Posts